खुदी और आरजू

किनारा बड़ी दूर था, और हम निकले भी बाजुओं के दम पे थे!! या शायद किनारा था ही नहीं बस एक लहर थी जिस पर हम सवार थे!! पर कब दिल ने तम्मानाओं की कश्ती पकड़ ली, पता ही ना चला था!!

आरजू की कश्ती में कभी सवार होना तो ना चाहा था, पर पानिओं और तम्मानाओं की रवानी को कौन रोक सका है!! हमारी बाजुओं में इतना दम ना था कि उस दिल कि दरिया को रोक सकें!!

बेखुद हम, उल्फत के दरिया में बहते रहे, जब तक होश आया तब तक यह दिल दिल्लगी कर बैठा था!! ऐसा ना था कि दिल हमसे बेवफा था, पर फिस्सलना तो इसकी फितरत में है!!

खुदी का किला तम्मानाओं की एक ही चोट से ढेर हो जायेगा, कभी सोचा ना था!! हमारे वजूद को मिटा गया वोह मंज़र जो कभी हमारा अपना ना था!!
गम तो नहीं है पर, हाँ..., उफान उठता है तम्मानाओं की लहर में जब भी, उस दरिया का सीना चलानी होता है, जो खुदी की बूंदों से बना है...!!


Transliteration:
Kinara badi door tha, aur hum nikale bhi bazoon ke dum pe they!! ya shayad kinara tha hi nahin bas ek lahar jis par hum sawar they!! Par kab dil ne tamanaaon ki kashti pakad li pata na chala tha!!

arzoo ki kashti mein kabhi sawar hona to naa chaha tha, par paanion aur tamanaaon ki ravaani ko kaun rauk saka hai!! Hamari bazoon mein itna dum naa tha ki us dil ke daria ko rok sakein!!

Bekhud hum, ulfat ke daria mein bahte rahe, jab tak hosh aaya tab tak yeh dil dillagi kar baitha tha!! Aisa naa tha ki dil humse bewafa tha, par phisalanaa to iski fitraat mein hai!!

khudi ka kila taamnaaon ki ek hi chot se dher ho jayega kabhi socha naa tha!! hamare wajood ko mita gaya woh manzar jo kabhi hamara apna naa tha!!
Gum to nahin hai par, haan..., ufaan uthta hai tamanaaon ki lahar mein jab bhi, us daria ka seena chalani hota hai, jo khudi ki boondon se bana hai...!!

1 comments:

  Gopal Joshi

29 May 2008 at 15:45

bhai badi baat likh deta ho tum to .. gud keep on writing and keep me update .. nice reading ..