अंधेरा

झरोखों की कुछ रोशनी और कांच में बंद बहुत सा अंधेरा !
अंधेरे स्याह कमरों में मिलो कभी तुम मुझसे !!